Haryanvi Poems 2020 – Best Haryanvi Poems and Stories in Hindi

Best Haryanvi Poem on Haryana Culture

कड़ै गऐ बचपन के मित्र,
पाटी कच्छी टुटे लित्र ।
भैसैया गेल्यां गऐ जोहड पै,
काढ़ी कच्छी बडगे भित्तर ।
माचिस के ताश बणाया करदे,
नहर पै खेलण जाया करदे ।
घर तै लुकमा बेच कै दाणे,
खा गे खुरमे खिल मखाणे ।
मिश्री तै मिठे होया करदे,
खिल्लां तै फ़िक्के होगे….
वे यार पुराणे रै…
बेरा ना कित्त खोगे।
पकड लिये फेर स्कूल के रस्ते,
हाथ मै तख्ती काँख मैं बस्ते ।
गरमी गई फेर आ गया पाला,
एक दिन नहा लिऐ एक दिन टाला ।
पैंट ओर बुरसट मिलगी ताजी,
एक दो दिन गए राजी राजी ।
हाथ जोड फेर रोवण लागे,
आज आज घर पै रहण दैयो मां जी ।
आखयां मै आंसु आए ना…
हाम्म थुक लगा कै रोगे ।
वे यार पुराणे रै…
बेरा ना कित्त खोगे ।
कॉलेज मै फेर होग्या एडमिशन,
बाहर जाण की थी परमिशन ।
रोडवेज मै जाया करदे,
नकली पास कटाया करदे ।
बीस रुप्पली करकै कट्ठी,
ले लिया करदे चा और मट्ठी ।
स्पलैंडर पै मारे गेडे,
सैट करली थी दो दो पट्ठी ।
मास्टर पाठ पठाया करदा,
आंख मिच कै सोगे ।
वे यार पुराणे रै…
बेरा ना कित्त खौगे ।
वक्त गेल गऐ बदल नजारे,
बिखर गऐ सब न्यारे न्यारे ।
घरां पडया;कोए करै नौकरी,
घरक्यां नै करी पसंद छोकरी ।
शादी करली बणगे पापा,
कापी छोडी लिया लफाफा ।
रोऐ जा सै दिल मरज्याणा,
भुल गऐ क्यु टैम पुराणा ।
“saare balak” याद करै..
क्यु बीज बिघन के बो गे रै ।
वे यार पुराणे रै,
बेरा ना कित्त खोगे….

Sad Story On A Farmer In Hindi

स्कूल प्रिंसिपल ने बहुत ही कड़े शब्दों मे जब किसान की बेटी ख़ुशी से पिछले एक साल की स्कूल फीस मांगी, तो ख़ुशी ने कहा मैडम मे घर जाकर आज पिता जी से कह दूंगी , घर जाते ही बेटी ने माँ से पूछा पिता जी कहाँ है ? तो माँ ने कहा तुम्हारे पिता जी तो रात से ही खेत मे है बेटी दौड़ती हुई खेत मे जाती है और सारी बात अपने पिता को बताती है ! ख़ुशी का पिता बेटी को गोद मे उठाकर प्यार करते हुए कहता है की इस बार हमारी फसल बहुत अच्छी हुई है अपनी मैडम को कहना अगले हफ्ता सारी फीस आजाएगी !
क्या हम मेला भी जाएंगे ?? ख़ुशी पूछती है
हाँ हम मेला भी जाएंगे और पकोड़े, बर्फी भी खाएंगे ख़ुशी के पिता कहते है..!
ख़ुशी इस बात को सुनकर नाचने लगती है और घर आते वक्त रस्ते मे अपनी सहेलियों को बताती है की मै अपने माँ पापा के साथ मेला देखने जाउंगी,पकोड़े बर्फी भी खाउंगी ये बात सुनकर पास ही खड़ी एक बजुर्ग कहती है, बेटा ख़ुशी मेरे लिए क्या लाओगी मेले से ??
काकी हमारी फसल बहुत अच्छी हुई है मे आपके लिए नए कपडे लाऊंगी ख़ुशी कहती हुई घर दौड़ जाती है !
अगली सुबह ख़ुशी स्कूल जाकर अपनी मैडम को बताती है की मैडम इस बार हमारी फसल बहुत अच्छी हुई है, अगले हफ्ते सब फसल बिक जाएगी और पिता जी आकर सारी फीस भर देंगें..!
प्रिंसिपल : चुप करो तुम, एक साल से तुम बहाने बाजी कर रही हो
ख़ुशी चुप चाप क्लास मे जाकर बैठ जाती है और मेला घूमने के सपने देखने लगती है तभी
ओले पड़ने लगते है तेज बारिश आने लगती है बिजली कड़कने लगती है पेड़ ऐसे हिलते है मानो अभी गिर जाएंगे ख़ुशी एकदम घबरा जाती है
ख़ुशी की आँखों मे आंसू आने लगते है वोही डर फिर सताने लगता है डर सब खत्म होने का, डर फसल बर्बाद होने का, डर फीस ना दे पाने का
स्कूल खत्म होने के बाद वो धीरे धीरे कांपती हुई घर की तरफ बढ़ने लगती है। हुआ भी ऐसा कि सभी फसल बर्बाद हो गई और खुशी स्कूल में फीस जमा नही करने के कारण ताना सुनने लगी। उस छोटी सी बच्ची को मेला घुमने और बर्फी खाने की शौक मन में ही रह गई।
छोटे किसान और मजदूरों के परिवार में जो दर्द है उसे समझने में पूरी उम्र भी गुजर जाएगी तो भी शायद वास्तविक दर्द को महसूस नही कर सकते आप।
जय हिंद लाड़लो।।

Haryanvi Poem On Raksha Bandhan in Hindi

थोड़ा डरते है थोड़ा कतराते है
आजकल लोग सच सुनने से बहुत घभराते है
यूँ डरा के उससे बातें मनवाया करते है
कुछ लड़के है जो ऐसे भी दिल लगया करते है
कुछ गलत अगर करना हो तो उसपे अपना हक़ जताते है
तुम्हे मुझसे कितनी मोहबत है
कहके ऐसा फिर यह साबित करवाते है
किसी की बहन तुम्हे पंखुड़ी और गुलाब लगती है
जब तुम्हरी को कोई कुछ कहे यह सुनके फिर क्यों आग लगती है
जो होते है बेकार यह बात उनके ही जेहन में होती है
मत उछाला करो किसी लड़की की इज्जत
तुम्हरी बहन की तरह वो भी किसी की बहन होती है
जैसे तुम चूमते हो किसी को अगर कोई तुम्हरे बहन को चूमे
जैसे तुम घूमते हो किसी को लेके ऐसे ही अगर तुम्हरे बहन को लेके गुमे
इतना गहरा जखम अपने माँ बाप के दिल में क्यों दे जाते हो
तुम बिना सोचे समझे क्यों उसे घर से भगा ले जाते हो
सच्चे प्यार करने वाले ऐसा कभी किया नहीं करते
जैसे तुमने दिया तुम्हारी तरह वो अपने माँ बाप को धोखा दिया नई करते
मालूम तो होगा ही तुम्हरे माँ फिर कितना रोती है
मत उछाला करो किसी लड़की की इज्जत
तुम्हरी बहन की तरह वो भी किसी की बहन होती है ..!
खड़ी हो जहा लड़किया तुम पास जा के उनकी बातें टोकते हो
अपने जैसे यार बैठा के साथ तुम उनका रास्ता रोकते हो,
करके परेशान तुम उनकी हसी उड़ाते हो
ऐसा कर के तुम खुद ही अपनी औकात दिखाते हो
छेड़ते है जो दुसरो की बहन बेटियों को बिच राह में
वो शायद भूल जाते है की इस शहर की गली में एक घर उनका भी होता है
दुसरो का दर्द कुछ नहीं,
बात तुम्हारे अपनों की हो तो क्यों दर्द होता है
आंसू तो उसके भी वैसे ही निकलते है जैसे तेरी आंखे रोती है
रात को चलती अकेली लड़की दोस्तों मौका नहीं जिम्मेदारी होती है
अपने सपनो को पलकों पे सिया था
हमने भी एक पगली को दिल दिया था
उसको अपनी सांसो में जकड़ा था
तीन साल रहे हम साथ उसके मगर कभी उसका हाथ तक नई पकड़ा था
वो बात अलग है वो मेरे ख्वाब सारे तोड़ गयी
खतिर किसी और के हमे अकेला छोड़ गयी
हसरतो का सारा बोझ मेरी पलके ढोती है
मत उछाला करो किसी लड़की की इज़त
तुम्हरी बहन की तरह वो भी किसी की बहन होती है..!

A Sad Love Story in Hindi

एक लड़की थी !
बहुत ही खूबसूरत ! जितनी वह सुंदर थी,
उतनी ही ईमानदार न किसी से झूठ बोलना,
न किसी से फालतू की बातें करना
बस अपने काम से काम रखना !
उसी क्लास में एक लड़का था !
वह मन ही मन उससे बहुत प्यार करता था !
लड़का अक्सर उसके छोटे-मोटे काम कर दिया करता था !
बदले में जब लड़की मुस्करा कर थैंक्यू कहती थी,
तो लड़के की खुशी की सीमा नहीं रहती थी !
एक बार की बात है !
दोनों लोग साथ-साथ घर जा रहे थे !
तभी जोरदार बारिश होने लगी !
दोनों को एक पेड़ के नीचे रुकना पडा पेड़ बहुत छोटा था,
बारीस की बुन्दे छन-छन कर उससे नीचे आ रही थीं !
ऐसे में बारिश से बचने के लिए दोनों एक दूसरे के बेहद करीब आ गये !
लड़की को इतने करीब पाकर लड़का अपने जज्बातों पर काबू न रख सका !
उसके लड़की को प्रजोज कर दिया !
लड़की भी मन ही मन उसको चाहती थी !
इसलिए वह भी राजी हो गयी !
और इस तरह दोनों का प्यार परवान चढ़ने लगा !
एक बार की बात है लड़की उसी पेड़ ने नीचे लड़के का इंतजार कर रही थी !
लड़का बहुत देर से आया !
उसे देखकर लड़की नाराजगी से बोली,
“तुम इतनी देर से क्यों आए? मेरी तो जान ही निकल गयी थी !”
यह सुनकर लडका बोला, “जानेमन, मैं तुमसे दूर कहां गया था, मैं तो तुम्हारे दिल में ही रहता हूं !
तुम्हें यकीन न हो तो अपने दिन से पूछ लो !”
लड़के की इस प्यारी सी बात को सुनकर लङकी अपना सारा गुस्सा भुल गयी
और वह दौड़ कर लड़के से लिपट गयी !
एक दिन दोनों उसी पेड़ के नीचे बैठे बातें कर रहे थें !
लड़की पेड़ के सहारे बैठी थी अैर लड़का उसकी गोद में सर रख कर लेटा हुआ था !
तभी लड़की बोली, “जानू, अब तुम्हारी जुदाई मुझसे बर्दाश्त नहीं होती ! तुम्हारे बिना एक
पल भी मुझे 100 साल के बराबर लगता है ! तुम मुझसे शादी कर लो, नहीं तो मैं मर जाऊंगी !”
लडके ने झट से लड़की के मुंह पर अपना हाथ रख दिया और बोला, “मेरी जान, ऐसी बात
मत किया करो, अगर तुम्हें कुछ हो गया, तो मैं कैसे जिंदा रहूंगा !”
फिर वह कुछ सोचता हुआ बोला, “तुम चिंता मत करो, मैं जल्द ही अपने घर वालों से बात करूंगा !”
धीरे-धीरे काफी समय बीत गया ! एक दिन की बात है !
दोनों लोग उसी पेड़ के नीचे बैठे हुए थे !
उस समय लड़के का चेहरा उतरा हुआ था ! लड़की
के पूछने पर वह रूआंसा होकर बोला, “जान, मैंने अपने घर वालों को बहुत समझाया, पर वे
हमारी शादी के लिए तैयार नहीं हैं। उन्होंने मेरी शादी कहीं और पक्की कर दी है !”
यह सुन कर लड़की का कलेजा फट पड़ा !
उसका मन हुआ कि वह जोर-जोर से रोए, लेकिन
उसने अपने जज्बात पर काबू पा लिये और बोली, “मैंने
तुमसे सच्चा प्यार किया है, मैं तुम्हें कभी भुला नहीं सकती !”
“प्लीज मुझे माफ कर देना..!” लड़का धीरे से बाेला,
वैसे अगर तुम चाहो, तो अब से हम एक अच्छे दोस्त रह सकते हैं !”
लडकी यह सुन कर ज़ो-ज़ोर से रोने लगी
लड़के ने उसे समझाया और फिर दोनों लोग रोते हुए अपने-अपने घर चले गये !
देखते ही देखते लड़के की शादी का दिन आ गया !
लड़के को यकीन था कि उसकी शादी में उसकी दोस्त जरूर आएगी !
पर ऐसा नहीं हुआ ! हां, लड़की
का भेजा हुआ एक गिफ्ट पैक उसे ज़रूर मिला !
लड़के ने कांपते हांथों से उसे खोला ! उसे देखते ही वह बेहोश हो गया !
गिफ्ट पैक में और कुछ नहीं खून से लथपथ लड़की का दिल रखा हुआ था ! और साथ ही में
थी एक चिट्ठी, जिसमें लिखा हुआ था- अरे पागल,
अपना दिल तो लेते जा वरना अपनी पत्नी को क्या देगा😓😓😓😓
दोस्तो हमारी जिन्दगी का सबसे खुबसुरत एहसास प्यार ही है जो हमको आपको हर किसी को होता है
पर क्या हम उसको अपना पाते हैं कभी हम गलत तो कभी साथी गलत
दोनो सही तो घरवाले गलत पर क्या प्यार गलत होता है? “नही” तो मित्रों प्यार करो लेकिन खिलवाङ मत करो👏👏👏

Haryanvi Poem on Friendship in Hindi

#बीयर पीवैँ गरमिया म्ह
यार मेरे उल्लू के पट्ठे
पूरी पेटी ठा ल्यावैँ
100-100 रपिये कर कैँ कट्ठे…
पीयाँ पाच्छै भुँडे बोलैँ
शर्म तार कैँ धर दे सैँ
फोन मिला कै ढब्बण धोरै
#LOUDSPEAKER On कर दे सैँ
बात करा दे बात करा दे
इसे बात पै रोला हो ज्या
बोतल फोङैँ दही खँढादेँ
नया पजामा धोला हो ज्या
कितै कूण म्ह प्याज पङे
और कितै कूण म्ह दाल सै
#DAILY रात नै कह कै सोवैँ
#भाई आज पाच्छै टाल सै
♥#love_u_कमीनो..!

Leave a Comment